उत्तरप्रदेश

जाने माता के दूसरे दिन की पूजा करने का क्या लाभ होगा

इस प्रकार से पूजन करें

Siddhant Fast News

या देवी सर्वभूतेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

नवरात्रि के दूसरे दिन अवश्य करें यह अचूक उपाय
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार माना जाता है की मां दुर्गा के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा करने से व्यक्ति को कुंडली में मौजूद मंगल दोष से छुटकारा मिलता है। साथ ही मंगल दोष से होने वाली तमाम तरह की परेशानियां भी उसके जीवन से दूर होने लगती हैं। कुंडली में मंगल ग्रह मजबूत होता है तो व्यक्ति को भूमि, भवन, बल आदि का आशीर्वाद मिलता है। ऐसे में आप चाहे तो नवरात्रि के दूसरे दिन कुछ अचूक उपाय करके इस दिन का सर्वश्रेष्ठ लाभ अपने जीवन में प्राप्त कर सकते हैं।

नवरात्रि के दूसरे दिन आप मंदिर जाकर देवी पार्वती और भगवान शिव के ऊपर जल और फूल अर्पित करें। इसके बाद पंचोपचार विधि से इन दोनों का पूजन करें। पूजा करने के बाद मौली से शिव और पार्वती देवी का गठबंधन करें और शीघ्र विवाह होने की प्रार्थना करें।
अगर आपके वैवाहिक जीवन में किसी तरह की कोई परेशानी आ रही है तो इस दिन गौरी माता का पूजन अवश्य करें। इससे आपको लाभ अवश्य मिलेगा।
रामायण के अनुसार कहा जाता है की मां सीता ने भी विवाह से पहले गौरी माता की पूजा की थी और तभी उन्हें भगवान श्री राम उन्हें पति के रूप में प्राप्त हुए थे।
इसके अलावा अगर आप मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करना चाहते हैं तो नवरात्रि के दूसरे दिन स्नान करने के बाद दुर्गा सप्तशती के मंत्रों का जाप अवश्य करें। इससे भी आपको मनचाहा वर प्राप्त होने की संभावना बढ़ जाती है।
क्या यह जानते हैं आप? नवरात्रि के दौरान बहुत से घरों में अखंड ज्योत जलाई जाती है लेकिन अखंड ज्योत स्थापित करने की एक सही दिशा निर्धारित की गई है। दरअसल अखंड ज्योति हमेशा दक्षिण पूर्व दिशा की तरफ ही रखनी चाहिए। ऐसा करने से अगर किसी जातक के वैवाहिक जीवन में किसी तरह की कोई समस्या आ रही है तो वह निश्चित रूप से दूर हो जाए

मां ब्रह्मचारिणी के नाम का अर्थ होता है ब्रह्मा अर्थात तपस्या और चारणी का मतलब होता है आचरण अर्थात एक ऐसी देवी जिन्हें तपस्या की देवी माना गया है। यही वजह है की मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से व्यक्ति तप, त्याग, वैराग, सदाचार और संयम प्राप्त करता है।

इन लोगों को विशेष रूप से करनी चाहिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
यूं तो मां दुर्गा के किसी भी स्वरूप और हर स्वरूप की पूजा हर कोई व्यक्ति कर सकता है लेकिन विशेष तौर पर जिन लोगों को बार-बार काम करने के बाद भी सफलता नहीं मिल रही हो, जिन्हें लालसाओं से मुक्ति पानी हो, उन्हें निश्चित रूप से मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको लालसाओं से मुक्ति मिलेगी और आपको सफलता मिलेगी


Siddhant Fast News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button